SPECIAL DAYS

Sawan Somwar: How to Impress Lord Shiva, then worship in this auspicious time, Best know the method of worship 2023.

सावन का पहला सोमवार 10 जुलाई को होगा. ऐसे में शुभता के अनुसार जानें कि इस दिन भगवान शिव की पूजा कब करनी चाहिए और उनकी कृपा पाने के लिए ऐसा करना चाहिए।

4 जुलाई से शुरू हुआ सावन का पहला सोमवार 10 जुलाई को पड़ेगा. इस वर्ष अधिकमास के कारण सावन माह में कुल 8 सोमवार व्रत हैं। शिव उपासक इस अवधि में भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए व्रत रखते हैं, लेकिन यदि आप उचित समय पर प्रार्थना नहीं करते हैं, तो आपकी भक्ति व्यर्थ है। Sawan Somwar: How to Impress Lord Shiva, then worship in this auspicious time, Best know the method of worship 2023 कृपया हमें इस परिदृश्य में सावन के पहले सोमवार पर प्रार्थना करने का तरीका और सबसे शुभ समय बताएं।

पूजा का महत्व सावन सोमवार(Sawan Somwar) को:-

भगवान शिव की भक्ति: भगवान शिव प्रमुख हिंदू देवताओं में से एक हैं, और सावन सोमवार पूजा ज्यादातर उन्हीं को समर्पित है। ऐसा माना जाता है कि भगवान शिव सबसे महान देवता हैं जो विनाश और पुनर्जनन दोनों का प्रतिनिधित्व करते हैं। इस महीने के दौरान, भक्त भगवान शिव की पूजा करते हैं और उनका आशीर्वाद, सुरक्षा और अपनी इच्छाओं की पूर्ति के लिए प्रार्थना करते हैं।

जल तत्व से जुड़ना: भारत में श्रावण मास जल तत्व और वर्षा ऋतु से जुड़ा है। हिंदू धर्म जल को पवित्र और शुद्ध करने वाला मानता है। सावन सोमवार मनाते समय, भक्त भगवान शिव की मूर्ति या लिंग पर जल (जलाभिषेक) करते हैं क्योंकि उनका मानना ​​है कि इससे उन्हें खुशी और धन मिलेगा। इन सोमवारों पर, कई भक्त तपस्या और भक्ति के रूप में उपवास भी करते हैं।

आध्यात्मिक महत्व: सावन सोमवार को विशेष रूप से आध्यात्मिक रूप से प्रेरित समय कहा जाता है। ऐसा कहा जाता है कि इस दौरान सच्ची प्रार्थना और भक्ति अधिक प्रभावी होती है क्योंकि भगवान शिव की पवित्र ऊर्जा अधिक उपलब्ध होती है, और इसके परिणामस्वरूप आध्यात्मिक विकास और परिवर्तन हो सकता है। भगवान शिव की स्वर्गीय उपस्थिति के साथ संवाद करने के लिए, भक्त ध्यान, भजन गायन और मंत्र जप का अभ्यास करते हैं।

मनोकामना पूरी करना और आशीर्वाद मांगना: मनोकामनाएं पूरी होती हैं और आशीर्वाद मांगा जाता है: सावन सोमवार पूजा भक्तों द्वारा आशीर्वाद प्राप्त करने और अपनी इच्छाओं को पूरा करने के लिए आयोजित की जाती है। लोग अपनी खुशी, समृद्धि और परिवार के स्वास्थ्य और कल्याण के लिए प्रार्थना करते हैं। Sawan Somwar:भगवान शिव को खुश केेसे करे कई अनुयायी सुखी विवाह, बच्चों और जीवन की चुनौतियों में सफलता के लिए भी प्रार्थना करते हैं। इस दौरान भक्तों का भगवान शिव की अच्छाई में दृढ़ विश्वास उन्हें आशावाद और आशा से प्रेरित करता है।

sawan somvar

Also Click:-Guru Purnima 2023 Quotes,Message,Date,History,Wishes

सामाजिक एवं सांस्कृतिक महत्व: सामाजिक और सांस्कृतिक महत्व: सावन सोमवार पूजा न केवल एक धार्मिक प्रथा है बल्कि सांस्कृतिक और सामाजिक महत्व भी रखती है। इस महीने के दौरान, कई भक्त भगवान शिव को समर्पित मंदिरों, विशेष रूप से 12 ज्योतिर्लिंगों (भगवान शिव के पवित्र निवास) और अन्य प्रमुख शिव मंदिरों में जाते हैं। वे इस अवधि के दौरान आयोजित विभिन्न धार्मिक और सांस्कृतिक कार्यक्रमों, जुलूसों और मेलों में भाग लेते हैं।

पहले सोमवार की पूजा का शुभ मुहूर्त:-

इस साल सावन के पहले सोमवार अमृत-सर्वोत्तम मुहूर्त का योग बन रहा है। ऐसे में सुबह-सुबह ही भोले बाबा की पूजा कर लेंवे। अमृत-सर्वोत्तम मुहूर्त सुबह 05 बजकर 30 मिनट से लेकर सुबह 07 बजकर 14 मिनट तक है। इसके अलावा शुभ-उत्तम मुहूर्त सुबह 08 बजकर 58 मिनट से लेकर सुबह 10 बजकर 42 मिनट तक है। 

सावन सोमवार पूजा विधि:-

सावन सोमवार पूजा की विधि, जिसे सावन सोमवार पूजा भी कहा जाता है, व्यक्तिगत प्राथमिकताओं, क्षेत्रीय रीति-रिवाजों और परंपराओं के आधार पर भिन्न हो सकती है। हालाँकि, यहां कई भक्तों द्वारा अपनाई जाने वाली पूजा पद्धति की एक सामान्य रूपरेखा दी गई है

तैयारी: पूजा क्षेत्र को साफ करें: सुनिश्चित करें कि जिस क्षेत्र में पूजा की जाएगी वह साफ सुथरा हो।
आवश्यक वस्तुओं की व्यवस्था करें: Sawan Somwar:भगवान शिव को खुश केेसे करे आवश्यक पूजा सामग्री जैसे भगवान शिव की तस्वीर या मूर्ति, फूल, अगरबत्ती, एक घंटी, एक दीपक, चंदन का पेस्ट, पवित्र राख (विभूति), फल, मिठाई और एक कटोरा पानी इकट्ठा करें।
स्नान करें: पूजा शुरू करने से पहले शुद्धिकरण स्नान या शॉवर लें।

  • मंगलाचरण एवं प्रार्थनाएँ: दीपक जलाएं: दीपक जलाकर भगवान शिव की तस्वीर या मूर्ति के पास रखें.Sawan Somwar:भगवान शिव को खुश केेसे करे
  • फूल चढ़ाएं: भगवान शिव के मंत्रों या प्रार्थनाओं का जाप करते हुए उन्हें ताजे फूल चढ़ाएं।
  • चंदन का लेप और पवित्र राख लगाएं: शुद्धि और भक्ति के प्रतीक के रूप में भगवान शिव की तस्वीर या मूर्ति पर चंदन का लेप और पवित्र राख (विभूति) लगाएं।
  • जल अर्पित करें: शुद्धि के संकेत के रूप में भगवान शिव की तस्वीर या मूर्ति पर जल छिड़कें।
  • फल और मिठाइयाँ चढ़ाएँ: भगवान शिव को प्रसाद के रूप में फल और मिठाइयाँ चढ़ाएँ।
  • मंत्रों का जाप करें: भगवान शिव को समर्पित मंत्रों का जाप करें, जैसे महा मृत्युंजय मंत्र या ओम नमः शिवाय मंत्र। यदि आप मंत्रों से अपरिचित हैं, तो आप बस भगवान शिव से अपनी हार्दिक प्रार्थना कर सकते हैं।
bhagwan shiv

अभिषेक (अनुष्ठान स्नान): अभिषेक करें: स्नान के तौर पर भगवान शिव की तस्वीर या मूर्ति पर पानी या दूध डालें। कुछ लोग अभिषेक के लिए शहद, दही, घी या गुलाब जल जैसे अन्य पवित्र पदार्थों का भी उपयोग करते हैं।
प्रसाद चढ़ाते समय, भगवान शिव को समर्पित मंत्रों या प्रार्थनाओं का जाप करते रहें।

आरती और भजन:अगरबत्ती जलाएं: भगवान शिव की तस्वीर या मूर्ति के सामने अगरबत्ती जलाएं और उसे गोलाकार घुमाएं।
आरती करें: भक्ति गीत या भजन गाते हुए भगवान शिव के सामने कपूर या घी का दीपक जलाकर आरती करें।
भजन गाएं: अपने प्रेम और भक्ति को व्यक्त करते हुए भगवान शिव को समर्पित भक्ति गीत गाएं या बजाएं।

प्रसाद एवं वितरण: प्रसाद चढ़ाएं: Sawan Somwar:भगवान शिव को खुश केेसे करे भगवान शिव को चढ़ाए गए फलों और मिठाइयों में से एक छोटा सा हिस्सा लें और उन्हें प्रसाद (धन्य भोजन) के रूप में चढ़ाएं।
प्रसाद का सेवन करें: प्रसाद का एक छोटा हिस्सा दैवीय आशीर्वाद के रूप में लें और उसका सेवन करें।
प्रसाद बांटें: बचा हुआ प्रसाद परिवार के सदस्यों, दोस्तों या उपस्थित भक्तों के साथ बांटें।

sawan somar

ध्यान और व्यक्तिगत प्रार्थनाएँ: एक शांत कोने में बैठें और ध्यान करें: ध्यान में कुछ समय बिताएं, भगवान शिव की दिव्य उपस्थिति पर ध्यान केंद्रित करें और उनका आशीर्वाद प्राप्त करें।
व्यक्तिगत प्रार्थनाएँ करें: अपनी व्यक्तिगत प्रार्थनाएँ करें औरSawan Somwar:भगवान शिव को खुश केेसे करे भगवान शिव के प्रति अपनी कृतज्ञता, इच्छाएँ और आकांक्षाएँ व्यक्त करें।

Related Articles

Back to top button